Home Blog

Computer Network and Different Network Computing Models

0

In this article, you will get some information about Computer Network and different network computing models along with their arrangement images.

Computer Network

  • A network is a set of devices or nodes that are connected via communication media or channel.
  • A printer, computer, or any machine that is capable of communicating on the network is referred to as a device or node.
  • We can also say that computer network is an interconnection of various computers to share software, hardware and data through a communication medium between them. The computers connected in a network share files, folders, applications and resources like scanner, web-cams, printers etc.
  • The best example of computer network is the Internet.

Know about Computer Network Concept in Detail:

Network Models

Network model describes the organization of nodes in the network. It refers to the way in which the different nodes are interconnected.

The different network computing models are:

  1. Centralized Model
  2. Distributed Model
  3. Collaborative Model

1. Centralized computing

  • It is also known as client-server computing.
  • In this type of system, multiple computers are joined to one powerful mainframe computer.
  • The server or mainframe computer has huge storage and processing capabilities.
  • The computers that are connected to the mainframe or server are called Clients or Nodes.
  • These nodes are not connected to each other; they are only connected to server.

2. Distributed computing

  • Distributed computing means that the task is divided among multiple computers.
  • It interconnects one ore more personal computers or workstations.
  • In distributed model the nodes are capable of processing their own data and rely on network for services other than data processing.
  • It allows various services like network sharing, hardware sharing and file sharing.

3. Collaborative /Hybrid computing

  • It is the combination of centralized and distributed computing.
  • In collaborative computing, the nodes are able to serve the basic needs of their users but they are dependent on some other computers for processing some specific request.

Also Read:

Data Communication and Components of Data Communication System

0
data communication system

Data communication refers to the exchange of data between two devices via some form of transmission medium.

Definition

Data communication is said to be local if communicating devices are in the same building or a similarly restricted geographical area.

It is said to be remote if the devices are farther apart.

Components of Data Communication System

A Communication system has following components :

  • Message : It is the information or data to be communicated. It can consist of text, numbers, pictures, sound or video or any combination of these.
  • Sender : It is the device/computer that generates and sends that message.
  • Receiver : It is the device or computer that receives the message. The location of receiver computer is generally different from the sender computer. The distance between sender and receiver depends upon the types of network used in between.
  • Medium : It is the channel or physical path through which the message is carried from sender to the receiver. The medium can be wired like twisted pair wire, coaxial cable, fiber-optic cable or wireless like laser, radio waves, microwaves.
  • Protocol : It is a set of rules that govern the communication between the devices. Both sender and receiver follow same protocols to communicate with each other.

Functions of a Protocol:

  1. Data sequencing. It refers to breaking a long message into smaller packets of fixed size. Data sequencing rules define the method of numbering packets to detect loss or duplication of packets, and to correctly identify packets, which belong to same message.
  2. Data routing. Data routing defines the most efficient path between the source and destination.
  3. Data formatting. Data formatting rules define which group of bits or characters within packet constitute data, control, addressing, or other information.
  4. Flow control. A communication protocol also prevents a fast sender from overwhelming a slow receiver. It ensures resource sharing and protection against traffic congestion by regulating the flow of data on communication lines.
  5. Error control. These rules are designed to detect errors in messages and to ensure transmission of correct messages. The most common method is to retransmit erroneous message block. In such a case, a block having error is discarded by the receiver and is retransmitted by the sender.
  6. Precedence and order of transmission. These rules ensure that all the nodes get a chance to use the communication lines and other resources of the network based on the priorities assigned to them.
  7. Connection establishment and termination. These rules define how connections are established, maintained and terminated when two nodes of a network want to communicate with each other.
  8. Data security. Providing data security and privacy is also built into most communication software packages. It prevents access of data by unauthorized users.
  9. Log information. Several communication software are designed to develop log information, which consists of all jobs and data communications tasks that have taken place. Such information may be used for charging the users of the network based on their usage of the network resources.

Also Read:

How to increase Testosterone Naturally | Testosterone kaise badhaye

0
how to increase testosterone naturally - testosterone kaise badhaye

नमस्कार दोस्तों, आज हम बात करेंगे टॉप 4 नेचुरल सप्लीमेंट्स की जिनकी मदद से आप testosterone levels को बढ़ा सकते हैं। जितना ज़रूरी है हम सभी का mentally और physically healthy रहना उतना ही ज़रूरी है की हम अपनी sexual health का भी ध्यान रखें।

हमारे गलत खान पीन, गलत लाइफस्टाइल और स्ट्रेस की वजह से हम लोगों को पता नहीं चलता, पर हमारी सेक्सुअल हेल्थ खराब होने लगती है। अगर पता चलता भी है तब भी हम इसके बारे में किसी के साथ चर्चा नहीं कर पाते, जबकि हमें करना चाहिए।

How to increase Testosterone | टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने के आयुर्वेदिक medicine

आप कुछ कुदरती नुस्खों से इस समस्या का समाधान पा सकते हैं। कुदरती तरीके ज़्यादा फायदेमंद हैं, दवा के मुकाबले में। आज हम बात करेंगे की कौन से ऐसे natural supplements हैं to increase testosterone levels जो आपकी sexual health के साथ-साथ आपकी overall health के लिया फायदेमंद हैं।

1. Bee Pollen (बी पोलन)

Bee Pollen (बी पोलन) एक बहुत ही अच्छा natural supplement है जो की आपकी internal health को काफी सुधारता है क्यूंकि इसमें होते हैं 250 से भी ज़्यादा एक्टिव substance जैसे की vitamins, minerals, protein, carbs, amino acids इत्यादि। यह आपकी हेल्थ को काफी तरीकों से फायदे पहुंचाता है।

बी पोलन एक बहुत ही शक्तिशाली एंटी-ऑक्सीडेंट है जो आपकी इम्युनिटी बढ़ाने में मदद करता है। दूसरा जो लोग gym जाते हैं उनकी शक्ति बढ़ाने में भी यह बहुत ही लाभदायक है।

बी पोलन का नियमित रूप से इस्तेमाल करने से आपके testosterone levels बढ़ेंगे और साथ में आपका sperm count भी बढ़ेगा।

Bee Pollen को कैसे लेना चाहिए ?

फायदे होने का यह मतलब नहीं की आप इसको जितना भी चाहो ले सकते हो। अगर आप शुरू करना चाहते हो तो आप आधा चमच से शुरू करें और फिर धीरे धीरे आप दो चमच तक जा सकते हो।

वैसे तो आप इसको दिन में कभी भी खा सकते हो, आपको फायदा ही होने वाला है। पर अगर आप बी पोलन को सुबह नाश्ते के साथ खाते हो तो आपको बढ़िया नतीजे मिलेंगे और आप पूरे दिन भर शक्ति महसूस करोगे।

इन्हें भी देखें –

2. Banslochan (वंशलोचन) or Tabasheer for Testosterone

Banslochan (वंशलोचन) को आप ऑनलाइन या मार्किट से ले सकते हैं। वंशलोचन पाया जाता है bamboo tree में और यह आपकी sexual health और testosterone को काफी सुधारता है। बहुत साड़ी आयुर्वेदिक दवाइयां ऐसी हैं जिनमें वंशलोचन का इस्तेमाल किया जाता है।

वंशलोचन को लेने के बहुत सारे फायदे हैं – जैसे की इसमें 90% silica पाया जाता है जो की आपकी bone और ligament की मज़बूती के लिए काफी ज़रूरी है।

यह आपको बहुत साड़ी respiratory disease बचाएगा। जिन लोगों को वज़न बढ़ाना है वो इसका इस्तेमाल कर सकते हैं और सबसे ज़रूरी यह आपकी sexual problems से निजात पाने में भी आपको मदद करता है।

जैसे की आपका libido बढ़ाएगा और जिन लोगों को impotency की समस्या है, यह उसको भी ठीक करने में काफी फायदेमंद है।

इन्हें भी देखें –

Banslochan (वंशलोचन) को कब और कैसे लेना चाहिए?

वंशलोचन की recommended dose है 3 से 5 ग्राम यानि आपको उससे ज़्यादा नहीं खाना है क्यूंकि यह आपके लेने बहुत हानिकारक भी हो सकता है। इसे 3 से 5 ग्राम को आपको divided dose में खाना चाहिए। एक dose आप सुबह ले सकते हो और एक dose आप शाम को ले सकते हो। और आपको इसको दूध के साथ लेना है।

3. Maca Root Powder (मक्का रुट पाउडर)

मक्का एक vegetable होता है जिसकी root को सूखा के मक्का रुट पाउडर बनाया जाता है और ये आपके testosterone levels को काफी ज़्यादा बढ़ाता है।

मक्का रुट पाउडर के फायदे के बारे में बात करें तो यह vitamin और minerals का काफी अच्छा source है। यह आपकी दिमाग की functioning को बेहतर करता है।

बॉडीबिल्डर, एथलिट और स्पोर्ट्समैन में यह बहुत ही popular सप्लीमेंट है क्यूंकि ये उनकी athletic performance को बढ़ाता है।

अगर आप 6 हफ्ते तक नियमित रूप से मक्का रुट पाउडर का सेवन करते रहोगे तो आपके sperm cells की production बढ़ जाएगी और उनकी quality भी सुधर जाएगी जिसकी वजह से जिन mens में infertility की समस्या है वो धीरे-धीरे ठीक होने लगेगी। और यह males की sexual desire को भी improve करता है।

इन्हें भी देखें –

Maca Root Powder (मक्का रुट पाउडर) को कब और कैसे लेना चाहिए?

मक्का रुट पाउडर की recommended dose जो है वो है 5g यानि आप इसको दिन में 5 ग्राम तक ले सकते हो। आप इसको दूध में डालके, ओट्स में डालके, दही में डालके या फिर अपने प्रोटीन शेक में डालके ले सकते हो।

आप इसको अगर pre-workout के साथ लोगे तो आपकी एक्सरसाइज करते strength बढ़ेगी। इसे आप 6 से 8 हफ्ते तक ले सकते हो आपको अच्छे नतीजे मिलेंगे।

4. Shilajit (शिलाजीत)

Shilajit (शिलाजीत) एक बहुत ही popular natural supplement है जिसको बहुत से काफी समय से उपयोग करते आ रहे हैं, बहुत साड़ी बीमारियों से निजात पाने के लिए। पर शिलाजीत को majorly use किया जाता है sexual health के लिए।

शिलाजीत में anti-inflammatory और anti-viral properties हैं। यह आपकी बॉडी में free radicals को कम करता है और damage cells को repair करता है, जिसकी वजह से आपकी ageing slow हो जाती है। साथ में यह आपकी बॉडी में आयरन के levels को भी बढ़ाता है।

सबसे ज़रूरी चीज़ जिसकी वजह से शिलाजीत को लिया जाता है कि यह आपकी sexual problems को काफी हद तक ठीक करता है और testosterone levels बढ़ाता है।

यह आपका libido बढ़ाता है, आपके sperm cells की quantity के साथ उसकी quality भी improve करता है। साथ में erectile dysfunction की समस्या को भी ठीक करने में यह फायदेमंद है।

इन्हें भी देखें –

Shilajit (शिलाजीत) को कब और कैसे लेना चाहिए?

Shilajit (शिलाजीत) को आप 0.3 – 0.5 ग्राम से ज़्यादा इस्तेमाल नहीं करें। दूसरा आप इसको गुनगुने पानी या फिर गुनगुने दूध के साथ ले सकते हैं। बेस्ट नतीजों के लिए रात को सोने से पहले आप इसको इस्तेमाल करोगे तो आपको बहुत लाभ होगा।

Precautions of Testosterone Boosting Supplements

अगर किसी को कोई भी बिमारी है, तो इन में से कोई भी सप्लीमेंट इस्तेमाल करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह ज़रूर लें। किसी भी सप्लीमेंट को बहुत लम्बे समय तक लगातार इस्तेमाल न करें।

आप 6 हफ्ते तक खाएं और फिर 4 हफ्ते के लिए छोड़ दें, उसके बाद फिर दोबारा खाना शुरू कर सकते हैं अगर आपको फायदा हुआ है तो।

यह थी कुछ जानकारी natural testosterone supplements से जुड़ी। आशा करता हूँ की आपको जानकारी पसंद आएगी, आप अपने दोस्तों के साथ भी यह आर्टिकल ज़रूर करें ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोग sexual health के बारे में भी aware हो जाएँ और अगर किसी को यह समस्या है तो वो किसी से भी discuss करने में hesitate न करें।

FAQ’s

Q: टेस्टोस्टेरोन का स्तर कैसे बढ़ायें?

Ans. आप ऊपर बताये गए सप्लीमेंट जैसे की शिलाजीत, वंशलोचन, मक्का रुट इत्यादि का उपयोग करके अपने टेस्टोस्टेरोन को बढ़ा सकते हैं।

Q: टेस्टोस्टेरोन हार्मोन कितना होना चाहिए?

Ans. FDA की मानें तो एक पुरुष के शरीर में टेस्टोस्टेरॉन Testosterone की नॉर्मल रेंज 300 से 1 हजार नैनोग्राम प्रति डेसीलीटर होनी चाहिए।

Q: टेस्टोस्टेरोन की कमी के लक्षण?

Ans. बहुत ज़्यादा थकान होना और बिलकुल एनर्जी नहीं होना कुछ symptoms है टेस्टोस्टेरोन की कमी के।

Q: टेस्टोस्टेरोन कैप्सूल?

Ans. शिलाजीत, अश्वशिला, अश्वगंधा जैसे कुछ कैप्सूल सप्लीमेंट हैं जो टेस्टोस्टेरोन बढ़ाते हैं।

Q: टेस्टोस्टेरोन ज्यादा होने के नुकसान?

Ans. एक्ने, ज़्यादा गुस्सा आना, शरीर पर ज़्यादा बाल होना, हाई ब्लड प्रेशर कुछ नुक्सान हैं ज़्यादा टेस्टोस्टेरोन के।

Q: टेस्टोस्टेरोन हार्मोन बढ़ाने के लिए क्या खाना चाहिए?

Ans. हरी सब्ज़ी, अंडा, शेल फिश, अवोकेडो, बेरीज, अनार जैसी चीज़ें खाने से टेस्टोस्टेरोन बढ़ता है।

अन्य पढ़ें –

Top 6 Protein rich food | हाई प्रोटीन फूड Veg और Non Veg

0
top 6 protein rich food

नमस्कार दोस्तों, आज हम बात करेंगे टॉप 6 high protein rich food sources के बारे में, जो भारतीय मार्किट में आसानी से मिल जाते हैं और आपको यह फ़ूड अपनी डाइट में ज़रूर लेने चाहिए।

Protein rich food in hindi

बहुत सारे लोग ऐसा मानते हैं की प्रोटीन सिर्फ उन लोगों को लेना चाहिए जो एक्सरसाइज या शारीरिक मेहनत करते हैं या जो muscles build करना चाहते हैं।

जबकि ऐसा नहीं है, एक आम इंसान को अच्छे लाइफस्टाइल के लिए भी ज़रुरत होती है प्रोटीन की, जो की है:-

0.8g/Kg of Body Weight

पर अगर आप muscle build करना चाहते हैं या आप कोई भी फिजिकल एक्टिविटी करते हो। तो वो प्रोटीन की ज़रुरत बढ़ सकती है, जो की है:-

1.2g-2g/Kg of Body Weight

प्रोटीन के साथ-साथ आप लोगों का यह ध्यान रखना भी ज़रूरी है कि आपको कितना कार्बोहायड्रेट खाना चाहिए और कितना फैट खाना चाहिए।

और यह सब इस पर निर्भर करता है की आपका BMI (आप वाले लिंक पर क्लिक करके अपना कैलकुलेट कर सकते हो) कितना है। नीचे BMI के बारे में कुछ बताया गया है जिससे आप अपने वज़न की जानकारी ले सकते हैं।

BMIWeight Status
Below 18.5Under Weight
18.5 – 25.0Normal
25.0 – 30.0Overweight
30.0 and AboveObese

जो 6 प्रोटीन फूड जो हमने बताये हैं आपके लिए वो सभी हाई प्रोटीन हैं और साथ में इनमें कम फैट है। मतलब की अगर आप किसी भी BMI range में हो, तो आप इनमें से कोई भी प्रोटीन फूड ले सकते हो।

6 Protein rich Food Veg and Non Veg, हाई प्रोटीन फूड

1. Chicken Breast (चिकन)

जो लोग नॉन वेजीटेरियन हैं उनके लिए चिकन सबसे बढ़िया Protein rich Food source है। इसमें आपको 100g में मिलेगा 27-30g प्रोटीन और 3-4g फैट।

तो दिन में आप कम से कम एक meal में आप chicken खाने की कोशिश करें। पर जहाँ से भी इसे खरीदते हो fresh होना चाहिए और बनाने से पहले आप अच्छे से उसको साफ़ करके बनाएं।

और chicken से आपको प्रोटीन तो मिलेगा ही पर साथ में यह आपकी हड्डियों के लिए बहुत ही अच्छा source है।

2. Green Moong Dal (हरी मूंग दाल)

जितने भी लोग vegetarian हैं वो अधिकतर यह बोलते हैं की उनके पास इतने protein rich food source नहीं हैं जितने की non vegetarians के पास, जबकि ऐसा नहीं है।

हरी मूंग दाल आपके लिए वरदान साबित हो सकती है क्यूंकि 100g हरी मूंग दाल में आपको मिलेगा 24g प्रोटीन और बहुत थोड़ा 1.5-2g फैट।

वैसे तो आप बाकि दलों में से कोई भी दाल खा सकते हो, पर हरी मूंग दाल आसानी से पच जाती है और इसमें कार्बोहाइड्रेट्स कम होते हैं। आप दिन में एक बार इसको sprouts की form में या आम दाल की तरह भी खा सकते हैं।

3. Whey Protein (वे प्रोटीन)

Whey Protein से जुड़े बहुत से अंधविश्वास हैं – जैसे की लड़कियों को whey protein नहीं पीना चाहिए, जो लोग gym जाते हैं उन्ही का whey protein लेना आवश्यक है। बहुत से लोग ऐसा भी कहते हैं की whey protein लेने से kidney ख़राब हो जाती है, जबकि ऐसा नहीं है।

Whey Protein एक नेचुरल प्रोटीन है – इसकी हर एक सर्विंग में आपको मिलता है 24g प्रोटीन। जिसे आप आसानी से पी सालते हैं और कहीं भी आसानी से लेकर जा सकते हैं। आपकी बॉडी whey protein को बहुत ही आसानी से पचा लेती है।

पर जहाँ से भी आप अपने लिए whey protein खरीदते हो वो genuine होना चाहिए और कोई अच्छे ब्रांड का ही प्रोटीन आपको लेना चाहिए।

Check out:

4. Fish (फिश)

फिश एक बहुत ही अच्छा प्रोटीन source है आप सभी लोगों के लिए। 100g fish में आपको मिलता है 21 – 25g प्रोटीन (निर्भर करता है की आप कोण सी fish खा रहे हो) और 8 – 12g फैट जो की अच्छा फैट होता है जो आपके दिल के साथ – साथ आपके skin, आँखों, बालों और nails के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है।

तो आप अपनी daily protein की ज़रुरत के लिए कोई भी फिश खा सकते हो।

5. Egg Protein rich food (अंडा)

Egg भी एक बहुत अच्छा protein rich food source है आप सभी लोगों के लिए। एक अंडे में आपको लगभग 5.5g प्रोटीन आपको मिलता है। पर अगर हम योल्क को अलग कर देते हैं, जो बचता है egg white उसमे आपको 3g प्रोटीन मिलता है।

जो लोग एक या दो अंडे कहते हैं दिन में वो योल्क के साथ खा सकते हैं। पर अगर आप ज़्यादा मात्रा में अंडे खाना चाहते हैं तो आप बिना योक के ही खाएं।

अंडे को आप आसानी से मार्किट से ले सकते हैं और आप इसको किसी भी तरीके से खा सकते हो – Boiled करके या Omelet बनाके और अच्छी चीज़ यह है की egg में आपको प्रोटीन के साथ भरपूर मात्रा में विटामिन्स और मिनरल्स मिल जाते हैं।

6. Soy Chunks protein rich food (सोया चंक्स)

Vegetarians के लिए soya chunks एक बहुत ही अच्छा प्रोटीन option है। 100g सोया चंक्स में लगभग आपको मिलता है 52g प्रोटीन और सिर्फ 0.5g फैट। बहुत सारे लोग ऐसा बोलते हैं की सोया खाने से testosterone कम हो जाता है और estrogen बढ़ जाता है।

तो इसलिए आप दिन में 25 से 40g सोया चंक्स खा सकते हो और अपनी प्रोटीन intake को बढ़ा सकते हो।

तो दोस्तों, मेने आपको बताये हैं 6 protein rich food sources क्या होने चाहिए लेकिन इसके अलावा भी काफी प्रोटीन फूड हैं जैसे कि दूध, दही, पनीर, नट्स (बादाम, काजू , अखरोट), बीन्स इत्यादि। पर इन सभी में protein के साथ-साथ अधिक मात्रा में फैट भी होता है, तो जो लोग underweight हैं या जिनका बॉडी फैट percentage कम है वो इन फूड को ले सकते हैं। पर जो लोग overweight हैं या obese हैं वो इन फूड को नहीं लें।

जो 6 protein rich food हमने बताये हैं वो कोई भी अपनी डाइट में शामिल कर सकता है। आशा करता हूँ कि आपको जानकारी पसंद आयी होगी, ऐसी ही जानकारी के लिए जुड़े रहें हमारे साथ। धन्यवाद।

FAQ’s

Q: हाई प्रोटीन फूड कौन-कौन से होते हैं ?

Ans. चिकन, फिश, हरी मूंग दाल, सोया चंक्स, दूध, दही, पनीर, नट्स (बादाम, काजू , अखरोट), बीन्स इत्यादि हाई प्रोटीन फूड हैं.

Q: प्रोटीन में क्या खाएं?

Ans. प्रोटीन लेने के लिए आप उन प्रोटीन फूड को खाएं जिनमें प्रोटीन ज़्यादा हो पर फैट कम हो। आप अंडा, Whey Protein, चिकन, फिश, हरी मूंग दाल, सोया चंक्स, दूध, दही, पनीर, नट्स खा सकते हैं।

Q: शाकाहारी भोजन में प्रोटीन का सबसे अच्छा स्रोत क्या है?

Ans. शाकाहारी भोजन में प्रोटीन का सबसे अच्छा स्रोत है – दालें, दूध, दहीं, पनीर, बीन्स, सोया, नट्स खा सकते हैं।

Q: 1 दिन में कितना प्रोटीन लेना चाहिए?

Ans. जबकि ऐसा नहीं है, एक आम इंसान को अच्छे लाइफस्टाइल के लिए भी ज़रुरत होती है प्रोटीन की, जो की है:- 0.8g/Kg of Body Weight

Q: एक बॉडीबिल्डर को कितना प्रोटीन लेना चाहिए?

Ans. अगर आप muscle build करना चाहते हैं या आप कोई भी फिजिकल एक्टिविटी करते हो। तो प्रोटीन की ज़रुरत बढ़ सकती है, जो की है:- 1.2g-2g/Kg of Body Weight

अन्य पढ़ें –

Zincovit tablet uses in hindi | ज़िन्कोविट दवा के उपयोग और फायदे

0
Zincovit tablet uses in hindi

नमस्कार दोस्तों, आज हम बात करेंगे Zincovit tablet uses in hindi की। यह एक मल्टीविटामिन, मल्टीमिनरल्स और ग्रेप सीड एक्सट्रेक्ट से बानी टेबलेट है। इस टेबलेट का इस्तेमाल मल्टीविटामिन के तौर पे किया जाता है।

Introduction to Zincovit Tablet in hindi

जैसा की इसका नाम है, उससे यह पता चलता है की जो इसका main ingredient होगा वो zinc होगा। मल्टीविटामिन एक ऐसा टेबलेट होता है जिसमे काफी सरे विटामिन को add किया जाता है। विटामिन vital substance होते है हमारी बॉडी के हर छोटे और बड़े काम के लिए।

जिन लोगों की डाइट में नुट्रिशन की कमी रहती वह लोग zincovit का सेवन करके अपनी डाइट में नुट्रिशन को पूरा कर सकते हैं।

Zincovit Tablet Price and Manufacturer

ज़िन्कोविट एक ऐसी टेबलेट है जिसे apex laboratories बनाती है, जिसमे कुछ कंसन्ट्रेशन में विटामिन्स और मिनरल्स हैं जिंक के साथ। Zincovit Tablet के 15 tablets के पैक की क़ीमत 90 रूपए है।

यह टेबलेट prescribed की जाती है इम्यून डेफिशियेंसी disorders के इलाज के लिए। चलिए ज़िन्कोविट टेबलेट में पाए जाने वाले ingredients के बारे में जानते हैं:-

Zincovit tablet Ingredients in hindi

Zincovit की हर एक शुगर कोटेड टेबलेट में:

IngredientsQuantity
Grape Seed Extract50 mg
Vitamin C (Ascorbic Acid) विटामिन C 40 mg
Vitamin B318 mg
Vitamin E (as Tocopherol Acetate) विटामिन E 10 mg
Zinc 10 mg
Magnesium3 mg
Vitamin B53 mg
Vitamin B21.6 mg
Vitamin B11.4 mg
Vitamin B61 mg
Vitamin A600 ug
Manganese 250 ug
Biotin (Vitamin B7)150 ug
Folic Acid100 ug
Iodine100 ug
Copper30 ug
Selenium30 ug
Chromium25 ug
Vitamin D35 ug
Vitamin B121 ug

Zincovit के अंदर वे सभी विटामिन और मिनरल्स होते हैं, जो आपके शरीर को स्वस्थ रखने के लिए काफी ज़रूरी होते हैं।

क्या Zincovit टेबलेट Veg है या नहीं?

Zincovit टेबलेट vegetarian है। कोई भी vegetarian इसको ले सकता है। इसमें कोई भी non-vegetarian सोर्स नहीं डाला गया है। तो यह सबसे अच्छी बात है कि कोई भी व्यक्ति अगर vegetarian है तो वो इसे ले सकता है।

Zincovit Tablet Uses in Hindi | Zincovit Tablet ke fayde

  • अगर आपको भूख नहीं लगती और भूख बढ़ाना चाहते हैं तो आप इसको ले सकते हैं।
  • अगर आपको कोई चोट लग गई है तो उसे ठीक करने में भी यह मदद करती है।
  • अगर आपको थकान लगती है या फिर सामान्य कमज़ोरी है तब भी आप इसका सेवन कर सकते हैं।
  • Zincovit मल्टीविटामिन एक अच्छी न्यूट्रिशनल सपोर्ट देती है उन लोगों को जो chronic बीमारियों से झूझ रहे हैं।
  • अगर आपको विटामिन और जिंक की कमी है तो भी आप इसे ले सकते हैं क्यूंकि इसमें जिंक मौजूद है।
  • ज़िन्कोविट को एक dietary सप्लीमेंट के तौर पर भी लिया जाता है कुछ conditions के लिए जैसे की विटामिन और जिंक deficiency के लिए।
  • ज़िन्कोविट में अंगूर के बीज का एक्सट्रेक्ट भी है जो बहुत ही शक्तिशाली एंटी-ऑक्सीडेंट है। यह आपको कुछ तरह की इन्फेक्शन्स से लड़ने में और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करने में मदद करता है।
  • विटामिन C और E भी एंटी-ऑक्सीडेंट्स हैं जो ऑर्गन की जल्दी रिकवरी और healing में मदद करते हैं, ताकि जल्दी से जल्दी रिकवरी हो सके और आपकी हेल्थ को पहले जैसा रिस्टोर किया जा सके।
  • जो लोग gym करते हैं उन लोगों को उनके ट्रेनर भी इसे लेने के लिए कहते हैं। क्यूंकि यह रिकवरी और muscle growth में भी मदद करती है।
  • इसके अलावा जिन लोगों के बाल झड़ते हैं उनका Hair Fall इसे लेने से बंद हो सकता है।
  • जिन लोगों का वज़न कम है तो वो इसे वेट गेन के लिए भी ले सकते हैं, पर साथ में अच्छी डाइट भी ले तभी वज़न तेज़ी से बढ़ेगा।
  • अगर आपको किसी भी तरह से त्वचा में problem दिख रही है तो आप इसका सेवन कर सकते हैं। pimples के लिए भी आप इसका सेवन कर सकते हैं।
  • इसके अल्वा हड्डियों को मज़बूत करने में भी यह दवा मदद करती है।
  • तो दोस्तों यह थे Zincovit Tablet uses in hindi

Dosage of Zincovit Tablet

आप इसकी 1 टेबलेट को दोपहर को खाना खाने के बाद लेते हैं। इसे 1 से 2 महीने लिया जाता है और इतने समय तक इसे लेने से यह अच्छे फायदे देती है। इसे लेने की अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से भी पूछ सकते है जो सही रहेगा।

Buy Zincovit Tablets: Buy Now!

अगर आप gym जाते हैं तो आप इसे सुबह खाना खाने के बाद या रात में भी ले सकते हैं। लेकिन दिन में इसे एक बार ही लें।

इसे पुरुष और महिला दोनों ले सकते हैं पर यह बच्चों के लिए नहीं है। तो बच्चों को यह टेबलेट नहीं दें।

Side Effects and Precautions of Zincovit Tablet in Hindi

अगर आपको कोई बीमारी है या आप इसके किसी ingredient से एलर्जिक हैं तो इसे नहीं लें और लेने से पहले डॉक्टर से ज़रूर पूछ लें, नहीं तो आपको नुक्सान हो सकता है।

अब बात करते हैं की इससे आपको क्या साइड इफ़ेक्ट हो सकते हैं: वैसे तो इसके कोई भी साइड इफ़ेक्ट देखने को नहीं मिलते लेकिन फिर भी जितना आपको बताया गया है उतनी मात्रा में ही इस टेबलेट का सेवन करें, नहीं तो आपको इसके नुक्सान भी हो सकते हैं।

अगर आपको इसको लेने के बाद कोई हेल्थ issue लगता है जैसे पेट में दर्द या बेचैनी, उलटी आना, सर दर्द, एलर्जी जैसे समस्याएं देखने को मिलती हैं, तो इसे तुरंत लेना बंद कर दें और डॉक्टर से ज़रूर consult करें।

तो दोस्तों यह थे Zincovit tablet uses in Hindi और कुछ ओर महत्वपूर्ण जानकारी। अपना कीमती समय देने के लिए आपका बहुत-नहुत धन्यवाद।

Watch the video of Zincovit tablet uses in Hindi:

FAQ’s

Q: Zincovit गोली price?

Ans: Zincovit की 15 गोली के पैक का price 90 रूपए है।

Q: Zincovit को कब तक लिया जा सकता है?

Ans: Zincovit Tablet को 1 से 2 महीने तक लिया जा सकता है इसके फायदे अनुभव करने के लिए या आप डॉक्टर से भी पूछ सकते हैं कि इसे कब तक लिया जाए।

Q: Zincovit Tablet Uses in Hindi video?

Ans: Zincovit के Video को देखने के लिए आप यूट्यूब पर सर्च कर सकते हैं zincovit स्पेस aman deep creations. ऐसा करने से आपको हमारी zincovit की वीडियो मिल जाएगी या आप इस आर्टिकल में थोड़ा ऊपर इसकी वीडियो देख सकते हैं।

Q: जिंकोविट के बारे में बताइए?

Ans: ज़िन्कोविट एक मल्टीविटामिन, मल्टीमिनरल्स और ग्रेप सीड एक्सट्रेक्ट से बानी टेबलेट है।

Q: Zincovit Syrup Uses in Hindi?

Ans: Zincovit Syrup एक मल्टीविटामिन और मल्टीमिनरल्स syrup है.

अन्य पढ़े

How to stay focused and motivated in your workout?

0
how to stay focused and motivated in your workout

Here are 12 tips that help you to stay focused and motivated in your workouts. They’re all easy to implement, free, and virtually guaranteed to work!

Tips that help You to stay Focused and Motivated

“Maintain a positive attitude and the long-term goals will take care of themselves.”

-Arnold Schwarzenegger, on how to keep going over the long term.

Chances are you’re fairly new to working out. And unfortunately, if you’re like most North Americans, at least 50 percent of you will quit working out after the first month.

By six months the number will have increased to about 75 percent. By the end of the year only about 10 percent of those who first began will still be hitting the gym on a regular basis.

While the reasons are varied and mixed, most people who stop training do so because they become bored and unmotivated.

Well let’s see if we can do something about that. ere are 12 tips that help you to stay focused and motivated in Bodybuilding.

12 tips that help you to stay focused and motivated | How do Bodybuilder stay motivated

1. Get a workout buddy

There’s nothing like a workout partner to kick your ass on those less-than-energetic days. Likewise, you can kick his (or hers!) on days he or she feels sluggish.

A good training partner knows when to push you a little bit harder and when to give you slack. The two of you can have mini competitions.

At the very least you’ll have someone to keep you focused on training, and not worried about work or something distracting in your home life.

2. Fit yourself in

As crazy as it sounds, you may have to add your name to your day planner. If it takes making your workout one of your daily appointments, then so be it.

The benefit of this is that it helps you balance your workouts with other daily activities such as family, work or school.

You will be more successful and bound to stick with it if you make working out part of your lifestyle.

3. Pace yourself to stay focused and motivated

Don’t think that you’re going to develop the body you want overnight. It probably took you years to get out of shape.

A couple of weeks of all-out training will do nothing but make you incredibly stiff and sore, unwilling to work out and hating the sight of a dumbell or barbell.

It’s far better to train only two or three days a week year after year than to train seven days a week for one month and then quit because you’re burned out.

Remember, consistency is the key.

4. Rise and shine and work out! How can I motivate myself to transform my body?

The last thing you may want to do bright and early in the morning is hit the gym. But if you find yourself going home after work or school and flopping on the couch, give it a try.

By working out early in the morning you’ll be sure of getting it done, you’ll feel energized throughout the day, and your morning workout will prevent everything else in life from getting in the way of your all-important health and fitness goals.

5. The scale – who cares?

Unless you have a huge amount of fat to lose, don’t worry about your bodyweight.

A ten-pound loss of fat and a ten-pound gain of muscle will make a huge difference in your appearance, clothes size and health, but the scales will show no change.

Other than as a general guide for extremely overweight people, the scale is practically useless for measuring fitness success.

6. Pick a role model to stay focused and motivated

There’s nothing like having someone to look up to, to keep you focused on your goals. Literally millions of people look up to Arnold Schwarzenegger for this reason.

From a naive 19-year-old who stepped off a plane in 1968 speaking no English to world’s greatest bodybuilder, top Hollywood star and governor of California, Arnold knows a thing or two about motivation and staying focused.

Check out:

We’re sure there are many “mini-Arnolds” in your life. They could be teachers, co-workers or someone in the gym who overcame horrendous odds to get where he is.

On those days you don’t feel like working out or doing that extra set, ask yourself what would your role model do? We thought so. Now do that extra set!

7. Keep track of your success – How do bodybuilders focus?

One of the best ways to know where you’re going is to know where you’ve been.

For a few dollars you can pick up a training journal and start recording such things as the amount of cardio, the exercises, the reps, sets and weight used on each exercise, and how you feel and why.

Check out:

Were you up late the night before? Did you eat a heavy meal before coming to the gym? Forget to eat altogether?

Periodically looking in your journal will give you plenty of insight. You can see how different exercises and routines affect you, and you can see just how far you’ve come.

Your present warmup weights were once your workout weights. Those 20-minute cardio sessions two or three times per week have been replaced by four 45-minute high intensity workouts.

So even if sometimes you feel you’re going nowhere, your workout journal is telling you otherwise. Keep at it!

8. Get back on track

Missing a workout is not that big a deal. In fact, if you’ve been working out consistently an extra day off every month or so is recommended.

But for many people, one day off becomes two days off, two becomes three, and before long they’re skipping weeks on end.

The gym becomes just a memory. This is similar to the dieter who, because she’s eaten a cookie, eats the entire bag of cookies and a quart of chocolate ice cream.

Setbacks and missed workouts are perfectly normal. But the quicker you get back on track, the quicker you will reach your fitness goals.

Try to remember that health and fitness is not about being perfect. It is a way of life. Don’t view your workouts as being all or none. Just be consistent.

Work hard in the gym, and then get out!

9. Evaluate your progress on a regular basis to stay focused and motivated

If you don’t check your progress regularly you’ll be less inclined to push yourself and stay focused.

For example, you may be lifting the same weight for the same number of reps month after month.

If you’re happy with the way you are and just want to maintain a reasonable level of fitness, then that’s fine.

Check Out:

But chances are you would like to actually improve – increase your strength, gain muscle mass, look better and have more energy.

Unless you evaluate your strength, size and cardio levels on a regular basis, you won’t feel inclined to push yourself.

10. Get to the gym!

We all have days when we just don’t want to work out. We’d sooner go home and lie back on the couch with a soda or beer. But don’t. Force yourself to go to the gym.

Tell yourself you will just do the first exercise then go home. Odds are that within the first 10 to 15 minutes you’ll start feeling energized and have a great workout.

Sometimes the days when you have the least energy to begin with end up being the days you have your best workouts.

You’ll feel especially great about it, because you had originally planned to skip the gym, remember?

11. Change it up – How do I stay motivated to lift weights

Nothing zaps motivation and drive like monotony. Doing the same routine over and over will leave even the most die-hard fitness fanatics bored.

That’s why you should change your training routine every month or so. The change doesn’t have to be radical, either.

Something as simple as increasing or decreasing the number of reps may boost your enthusiasm. Try changing the exercises on a regular basis as well.

If you mainly use machines, then give free weights a try. If you always start your chest training with flat barbell presses, try doing incline dumbell or barbell presses.

Check Out:

Or start with back instead of chest. Use the pre exhaust system for a change. If you’re really stuck in a rut, give your workout a total overhaul and combine the muscles into different groups.

Usually do low reps and heavy weights? Try doing high reps with low weights. Do whatever it takes to get you back on track and focused.

12. Take some planned time off to stay focused and motivated

Even though earlier I said to force yourself to the gym, there will be times when taking a few days or even a whole week off is recommended.

Often one of the major signs of overtraining is a decrease in training drive and motivation.

In simple terms, your body is not getting a chance to fully recover before the next workout. Before long you’re experiencing burnout.

This is when the novice weight trainer is most likely to quit altogether. If you’ve been working out regularly for months on end, if you’ve tried all the other tips and nothing is helping, get out your calendar and block out one or two weeks to not train.

Make sure to write the dates on a calendar, because randomly taking time off without a plan could turn into a permanent layoff.

Unless you’ve really lost interest in training, a week or two off will have you chomping at the bit to get back to the gym, and if overtraining was indeed the cause of your motivation lapse, then you should come back stronger than ever.

Also Read:

Delayed Onset Muscle Soreness (DOMS) – The Dos & Don’ts of DOMS

0
how to recover delayed onset muscle soreness - DOMS

Most people start experiencing soreness in the exercised muscles about 12 to 24 hours after their workout. Physiologists use the term “delayed onset muscle soreness,” or DOMS, to describe this general condition.

Delayed Onset Muscle Soreness (DOMS) Introduction

You know the feeling. You get up in the morning and make that all-familiar arms-wide-open stretch and then it hits you: an intense, penetrating soreness. Then you say to yourself:

“Oh yeah, that’s right. I had a great chest workout yesterday.”

Unlike most people, however, who would be rushing to find their doctor’s number, the serious iron-pumper in you actually welcomes the pain.

In fact, no matter how intense or record-setting your workout, a lack of soreness the following day is not taken lightly.

You begin to wonder if you’re training hard enough. Perhaps you need to change your routine? Has your descent into old age begun?

No need to panic. While soreness is often associated with a great workout, it’s not an absolute necessity.

You don’t need to be howling in pain. Some of the most massive bodybuilders around rarely get sore after their workouts.

Can you get DOMS 2 days later

Some people may find that one or two muscles do not reach their full soreness until 48 hours (2 days) later.

The legs, particularly the calves, are well-known for this. The intense burn you feel during exercise is caused by the buildup of lactic acid – one of the primary waste-products generated during anaerobic respiration.

Originally, sports physiologists thought Delayed Onset Muscle Soreness (DOMS) was just a continuation of the soreness that you feel during your workout.

They assumed that the muscle soreness experienced over the next few days was a result of lactic acid remaining in the muscles.

What is the primary cause of Delayed Onset Muscle Soreness?

The most commonly held view now is that DOMS is primarily caused by the micro damage that occurs to muscle during high-intensity workouts, especially bodybuilding training.

Negative repetitions, where you lower the weight in a slow and controlled manner, seem to magnify the degree of muscle soreness.

Negatives apparently cause greater micro-trauma (damage at the muscle cellular level) than the positive, or lifting, part of the repetition.

More reason to concentrate on negatives just as much as positives. The type of pain you feel during and after a workout is different than the pain produced by an injury.

You should try and develop the ability to recognize the difference between the good pain (i.e. soreness) from training and the bad pain associated with an injury.

Unless the soreness is so extreme that it prevents you from doing normal day-to-day physical activity such as walking or stair climbing, then mild to moderate soreness is good pain.

It’s an indication that you had a great workout and that you trained hard enough to stimulate the muscles to new growth.

A sharp pain that occurs on only one side of your body is surely an injury.

How long can DOMS Last?

Delayed Onset Muscle Soreness (DOMS) will be most pronounced in beginners, as their muscles are not used to strenuous exercise.

With time their bodies will adapt to the workloads and the soreness will diminish with each respective workout. If you’ve been training for a while you can probably relate to this.

The first few weeks were probably brutal but with time the intensity of the post-workout soreness is greatly diminished.

Now, earlier I said that it wasn’t necessary to be intensely sore following a workout, but if you follow the same workout month after month and experience virtually no soreness, odds are your body has gotten accustomed to your workout.

You’ve reached a plateau and you’ll cease to make any strength or size gains until you change up your routine.

Delayed Onset Muscle Soreness DOMS
Delayed Onset Muscle Soreness DOMS

No matter how many years you’ve been working out, it’s a good idea to change your exercise program every four to six weeks.

Besides the increased enthusiasm that comes with a new training routine, you’ll also experience an increase in soreness – in other words, your body is being forced to break down and build up new muscle tissue.

How to make Body feel DOMS?

The key to continued success is shocking your body with progressive overload. Every time you shock your body with a new exercise routine you can expect the soreness to return.

You don’t need to radically change your training routine. Even small changes can leave you feeling pretty sore.

You can change the order of your workout, or the speed at which you perform the reps. You can use different exercises for the same body part, or you can increase or decrease the reps.

Keep this in mind when designing your new program. Start out with a few simple changes and gradually increase the intensity.

What to do if are feeling Muscle Soreness?

Okay. So what if you’re still sore from your previous workout? Should you still train the same muscles? If the soreness is mild, then go ahead and work right through it.

In fact an extra shot of blood to the area will only speed up recovery and help eliminate the soreness.

If, however, there is still a great deal of soreness remaining from the last training session, then the muscle has not completely recovered.

Hitting it again before full recovery has taken place may push you into a state of overtraining. The end result could be a loss of strength and size.

All right, let’s say you have gone overboard and can hardly move because you’re so sore. Is there anything you can do to alleviate the soreness?

How do you treat Delayed Onset Muscle Soreness? – DOMS Treatment

1. STRETCHING

Most of us know that stretching helps warm up muscles and is a great way to improve flexibility, but stretching is also an excellent way to reduce soreness.

Check out:

Stretching a muscle during or after a workout increases the transport of nutrients to the area and speeds up the removal of waste products.

More nutrients and less metabolic waste helps quicken the body’s repair processes.

2. CARDIO

Hop on a piece of cardio equipment after your workout. No need to do a full cardio session. Something in the order of five to ten minutes at low to moderate intensity would suffice.

Try to pick a cardio machine that involves the muscles you trained that day.

Check out:

While all machines will bring in the legs, some of them also require the use of the upper body muscles (i.e. rower and cross trainer).

As with stretching, light cardio will help transport waste products away from the muscles and bring in extra nutrients.

3. MASSAGE

A final recommendation is to try massage. Athletes in the former Eastern Bloc countries used massage for decades to speed recovery and reduce post-exercise soreness.

A good massage therapist uses different techniques to help remove metabolic waste products from the body and increase oxygen delivery to the area.

Check Out:

Some people just aren’t satisfied unless they’re sore the next day. Although in general increased soreness means more micro-damage and therefore more growth, this is not written in stone.

So until we understand more about the whole process, it’s probably adequate to say that mild to moderate soreness is preferred if we are looking for muscle growth.

EXTRA TIP – EARLY MORNING CARDIO

Sometimes old training staples become modified and improved over the years, but many training routines simply can’t be beat — like doing cardio for 30–45 minutes first thing in the morning on an empty stomach.

Cardio at this time will naturally boost your aerobic capacity and will also take advantage of a critical window for fat loss.

When you wake up, your glycogen and blood sugar levels are depleted, so the fuel you use for energy will be mostly from fat stores.

Also Read: